hain jalwa-e-tan se dar-o-deewar basanti | हैं जल्वा-ए-तन से दर-ओ-दीवार बसंती - Amanat Lakhnavi

hain jalwa-e-tan se dar-o-deewar basanti
poshaak jo pahne hai mera yaar basanti

kya fasl-e-bahaari ne shagoofe hain khilaaye
maashooq hain firte sar-e-bazaar basanti

genda hai khila baagh mein maidaan mein sarson
sehra vo basanti hai ye gulzaar basanti

us rashk-e-masiha ka jo ho jaaye ishaara
aankhon se bane nargis-e-beemaar basanti

gendon ke darakhton mein numayaan nahin gende
har shaakh ke sar par hai ye dastaar basanti

munh zard dupatte ke na aanchal se chhupao
ho jaaye na rang-e-gul-e-rukh'hsaar basanti

khilti hai mere shokh pe har rang ki poshaak
udi agri champai gulnaar basanti

hai lutf haseenon ki do-rangi ka amaanat
do chaar gulaabi hon to do chaar basanti

हैं जल्वा-ए-तन से दर-ओ-दीवार बसंती
पोशाक जो पहने है मिरा यार बसंती

क्या फ़स्ल-ए-बहारी ने शगूफ़े हैं खिलाए
माशूक़ हैं फिरते सर-ए-बाज़ार बसंती

गेंदा है खिला बाग़ में मैदान में सरसों
सहरा वो बसंती है ये गुलज़ार बसंती

उस रश्क-ए-मसीहा का जो हो जाए इशारा
आँखों से बने नर्गिस-ए-बीमार बसंती

गेंदों के दरख़्तों में नुमायाँ नहीं गेंदे
हर शाख़ के सर पर है ये दस्तार बसंती

मुँह ज़र्द दुपट्टे के न आँचल से छुपाओ
हो जाए न रंग-ए-गुल-ए-रुख़्सार बसंती

खिलती है मिरे शोख़ पे हर रंग की पोशाक
ऊदी, अगरी, चम्पई, गुलनार, बसंती

है लुत्फ़ हसीनों की दो-रंगी का 'अमानत'
दो चार गुलाबी हों तो दो चार बसंती

- Amanat Lakhnavi
0 Likes

Rang Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amanat Lakhnavi

As you were reading Shayari by Amanat Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Amanat Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Rang Shayari Shayari