dhyaan mein aa kar baith gaye ho tum bhi naan | ध्यान में आ कर बैठ गए हो तुम भी ना - Ambreen Haseeb Ambar

dhyaan mein aa kar baith gaye ho tum bhi naan
mujhe musalsal dekh rahe ho tum bhi naan

de jaate ho mujh ko kitne rang naye
jaise pehli baar mile ho tum bhi naan

har manzar mein ab hum dono hote hain
mujh mein aise aan base ho tum bhi naan

ishq ne yun dono ko aamez kiya
ab to tum bhi kah dete ho tum bhi naan

khud hi kaho ab kaise sanwar sakti hoon main
aaine mein tum hote ho tum bhi naan

ban ke hasi honton par bhi rahte ho
ashkon mein bhi tum bahte ho tum bhi naan

meri band aankhen tum padh lete ho
mujh ko itna jaan chuke ho tum bhi naan

maang rahe ho ruksat aur khud hi
haath mein haath liye baithe ho tum bhi naan

ध्यान में आ कर बैठ गए हो तुम भी ना
मुझे मुसलसल देख रहे हो तुम भी ना

दे जाते हो मुझ को कितने रंग नए
जैसे पहली बार मिले हो तुम भी ना

हर मंज़र में अब हम दोनों होते हैं
मुझ में ऐसे आन बसे हो तुम भी ना

इश्क़ ने यूँ दोनों को आमेज़ किया
अब तो तुम भी कह देते हो तुम भी ना

ख़ुद ही कहो अब कैसे सँवर सकती हूँ मैं
आईने में तुम होते हो तुम भी ना

बन के हँसी होंटों पर भी रहते हो
अश्कों में भी तुम बहते हो तुम भी ना

मेरी बंद आँखें तुम पढ़ लेते हो
मुझ को इतना जान चुके हो तुम भी ना

माँग रहे हो रुख़्सत और अब ख़ुद ही
हाथ में हाथ लिए बैठे हो तुम भी ना

- Ambreen Haseeb Ambar
5 Likes

Khushi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ambreen Haseeb Ambar

As you were reading Shayari by Ambreen Haseeb Ambar

Similar Writers

our suggestion based on Ambreen Haseeb Ambar

Similar Moods

As you were reading Khushi Shayari Shayari