hai kaun kis ki zaat ke andar likhenge ham | है कौन किस की ज़ात के अंदर लिखेंगे हम - Ameer Imam

hai kaun kis ki zaat ke andar likhenge ham
nahr-e-ravan ko pyaas ka manzar likhenge ham

ye saara shehar aala-e-hikmat likhe use
khanjar agar hai koi to khanjar likhenge ham

ab tum sipaas-naama-e-shamsheer likh chuke
ab daastaan-e-laasha-e-be-sar likhenge ham

rakhi hui hai dono ki buniyaad ret par
sehara-e-be-karan ko samundar likhenge ham

is shehar-e-be-charaagh ki aandhi na ho udaas
tujh ko hawa-e-koocha-e-dil-bar likhenge ham

kya husn un labon mein jo pyaase nahin rahe
sukhe hue labon ko gul-e-tar likhenge ham

ham se gunaahgaar bhi us ne nibha liye
jannat se yun zameen ko behtar likhenge ham

है कौन किस की ज़ात के अंदर लिखेंगे हम
नहर-ए-रवाँ को प्यास का मंज़र लिखेंगे हम

ये सारा शहर आला-ए-हिकमत लिखे उसे
ख़ंजर अगर है कोई तो ख़ंजर लिखेंगे हम

अब तुम सिपास-नामा-ए-शमशीर लिख चुके
अब दास्तान-ए-लाशा-ए-बे-सर लिखेंगे हम

रक्खी हुई है दोनों की बुनियाद रेत पर
सहरा-ए-बे-कराँ को समुंदर लिखेंगे हम

इस शहर-ए-बे-चराग़ की आँधी न हो उदास
तुझ को हवा-ए-कूचा-ए-दिल-बर लिखेंगे हम

क्या हुस्न उन लबों में जो प्यासे नहीं रहे
सूखे हुए लबों को गुल-ए-तर लिखेंगे हम

हम से गुनाहगार भी उस ने निभा लिए
जन्नत से यूँ ज़मीन को बेहतर लिखेंगे हम

- Ameer Imam
1 Like

Husn Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Husn Shayari Shayari