achhe eesa ho mareezon ka khayal achha hai | अच्छे ईसा हो मरीज़ों का ख़याल अच्छा है - Ameer Minai

achhe eesa ho mareezon ka khayal achha hai
ham mare jaate hain tum kahte ho haal achha hai

tujh se maanguun main tujhi ko ki sabhi kuchh mil jaaye
sau sawaalon se yahi ek sawaal achha hai

dekh le bulbul o parwaana ki betaabi ko
hijr achha na haseenon ka visaal achha hai

aa gaya us ka tasavvur to pukaara ye shauq
dil mein jam jaaye ilaahi ye khayal achha hai

aankhen dikhlaate ho joban to dikhaao sahab
vo alag baandh ke rakha hai jo maal achha hai

barq agar garmi-e-raftaar mein achhi hai ameer
garmi-e-husn mein vo barq-jamaal achha hai

अच्छे ईसा हो मरीज़ों का ख़याल अच्छा है
हम मरे जाते हैं तुम कहते हो हाल अच्छा है

तुझ से माँगूँ मैं तुझी को कि सभी कुछ मिल जाए
सौ सवालों से यही एक सवाल अच्छा है

देख ले बुलबुल ओ परवाना की बेताबी को
हिज्र अच्छा न हसीनों का विसाल अच्छा है

आ गया उस का तसव्वुर तो पुकारा ये शौक़
दिल में जम जाए इलाही ये ख़याल अच्छा है

आँखें दिखलाते हो जोबन तो दिखाओ साहब
वो अलग बाँध के रक्खा है जो माल अच्छा है

बर्क़ अगर गर्मी-ए-रफ़्तार में अच्छी है 'अमीर'
गर्मी-ए-हुस्न में वो बर्क़-जमाल अच्छा है

- Ameer Minai
0 Likes

Hijrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Hijrat Shayari Shayari