kis ke chamke chaand se rukhsaar qaisar-baag mein | किस के चमके चाँद से रुख़्सार क़ैसर-बाग़ में - Ameer Minai

kis ke chamke chaand se rukhsaar qaisar-baag mein
chaandni hai saaya-e-deewar qaisar-baag mein

fil-haqeeqat ye bhi kam gulzaar-e-jannat se nahin
hooren phirti hain sar-e-bazaar qaisar-baag mein

paanv ka yaa zikr kaisa saaf hai aisi zameen
dil fisalte hain dam-e-raftaar qaisar-baag mein

zer-e-shaakh-e-gul agar sabza kabhi sone laga
shor-e-bulbul ne kiya bedaar qaisar-baag mein

itne patte bhi na honge gulshan-e-firdaus mein
jis qadar phoolon ke hain ambaar qaisar-baag mein

tishnagaan-e-shauq hain sheerin-labon ke mehmaan
bat raha hai sharbat-e-deedaar qaisar-baag mein

qatre shabnam ke rag-e-gul par dikhaate hain bahaar
gundh rahe hain motiyon ke haar qaisar-baag mein

saaya-e-baal-e-huma kya dhoondhta hai ai ameer
baith zer-e-saaya-e-deewaar qaisar-baag mein

किस के चमके चाँद से रुख़्सार क़ैसर-बाग़ में
चाँदनी है साया-ए-दीवार क़ैसर-बाग़ में

फ़िल-हक़ीक़त ये भी कम गुलज़ार-ए-जन्नत से नहीं
हूरें फिरती हैं सर-ए-बाज़ार क़ैसर-बाग़ में

पाँव का याँ ज़िक्र कैसा साफ़ है ऐसी ज़मीं
दिल फिसलते हैं दम-ए-रफ़्तार क़ैसर-बाग़ में

ज़ेर-ए-शाख़-ए-गुल अगर सब्ज़ा कभी सोने लगा
शोर-ए-बुलबुल ने किया बेदार क़ैसर-बाग़ में

इतने पत्ते भी न होंगे गुलशन-ए-फ़िरदौस में
जिस क़दर फूलों के हैं अम्बार क़ैसर-बाग़ में

तिश्नगान-ए-शौक़ हैं शीरीं-लबों के मेहमाँ
बट रहा है शर्बत-ए-दीदार क़ैसर-बाग़ में

क़तरे शबनम के रग-ए-गुल पर दिखाते हैं बहार
गुँध रहे हैं मोतियों के हार क़ैसर-बाग़ में

साया-ए-बाल-ए-हुमा क्या ढूँढता है ऐ 'अमीर'
बैठ ज़ेर-ए-साया-ए-दीवार क़ैसर-बाग़ में

- Ameer Minai
0 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari