kya roke qaza ke vaar taweez | क्या रोके क़ज़ा के वार तावीज़ - Ameer Minai

kya roke qaza ke vaar taweez
qil'a hai na kuchh hisaar taweez

choti mein hai mushk-baar taweez
ya fitna-e-rozgaar taweez

dono ne na dard-e-dil mitaaya
gande ka hai rishta-daar taweez

kya naad-e-ali mein bhi asar hai
chaaron tukde hain chaar taweez

darta hoon na subh ho shab-e-wasl
hai mehr vo zar-nigaar taweez

ham ko bhi ho kuchh umeed-e-taskin
khoye jo tap-e-khayar taweez

pattaan ko jad hamaari pahunchee
gaada tah-e-pa-e-yaar taweez

haajat nahin un ko nau-ratan ki
baazu pe hain paanch chaar taweez

khatke vo na aaye faatihe ko
dekha jo sar-e-mazaar taweez

pee jaayenge ghol kar kise aap
hai naqsh na khaaksaar taweez

ai turk talen balaaen sar se
ik teg ka khat-e-hazaar taweez

dar hai tumhein kankanon se laazim
laaya to hai saada-kaar taweez

ikseer ka nuskha is ko samjhoon
khoye jo tira ghubaar taweez

majma hai ameer ki lahd par
mele ka hai ishtehaar taweez

क्या रोके क़ज़ा के वार तावीज़
क़िल'अ है न कुछ हिसार तावीज़

चोटी में है मुश्क-बार तावीज़
या फ़ित्ना-ए-रोज़गार तावीज़

दोनों ने न दर्द-ए-दिल मिटाया
गंडे का है रिश्ता-दार तावीज़

क्या नाद-ए-अली में भी असर है
चारों टुकड़े हैं चार तावीज़

डरता हूँ न सुब्ह हो शब-ए-वस्ल
है महर वो ज़र-निगार तावीज़

हम को भी हो कुछ उमीद-ए-तस्कीं
खोए जो तप-ए-ख़यार तावीज़

पत्तां को जड़ हमारी पहुँची
गाड़ा तह-ए-पा-ए-यार तावीज़

हाजत नहीं उन को नौ-रतन की
बाज़ू पे हैं पाँच चार तावीज़

खटके वो न आए फ़ातिहे को
देखा जो सर-ए-मज़ार तावीज़

पी जाएँगे घोल कर किसे आप
है नक़्श न ख़ाकसार तावीज़

ऐ तुर्क टलें बलाएँ सर से
इक तेग़ का ख़त-ए-हज़ार तावीज़

डर है तुम्हें कंकनों से लाज़िम
लाया तो है सादा-कार तावीज़

इक्सीर का नुस्ख़ा इस को समझूँ
खोए जो तिरा ग़ुबार तावीज़

मजमा है 'अमीर' की लहद पर
मेले का है इश्तिहार तावीज़

- Ameer Minai
0 Likes

Dar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Dar Shayari Shayari