kya khareedoge chaar aane mein | क्या ख़रीदोगे चार आने में - Ameer Qazalbash

kya khareedoge chaar aane mein
aqlmandi hai ghar na jaane mein

tabsira kar rahe hain duniya par
chand bacche sharaab-khaane mein

pursish-e-haal kar rahe hain log
kya bigadta hai muskuraane mein

ai musavvir ye surkh-roo chehra
aisi tasveer is zamaane mein

ghar mein andher kar gaya koi
der kar di charaagh laane mein

chhup ke baithi hui hai maut kahi
zindagi tere shaamiyaane mein

be-libaasi naseeb hai us ka
khwaab bunta hai kaar-khaane mein

क्या ख़रीदोगे चार आने में
अक़्लमंदी है घर न जाने में

तब्सिरा कर रहे हैं दुनिया पर
चंद बच्चे शराब-ख़ाने में

पुर्सिश-ए-हाल कर रहे हैं लोग
क्या बिगड़ता है मुस्कुराने में

ऐ मुसव्विर ये सुर्ख़-रू चेहरा
ऐसी तस्वीर इस ज़माने में

घर में अंधेर कर गया कोई
देर कर दी चराग़ लाने में

छुप के बैठी हुई है मौत कहीं
ज़िंदगी तेरे शामियाने में

बे-लिबासी नसीब है उस का
ख़्वाब बुनता है कार-ख़ाने में

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Qismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Qismat Shayari Shayari