subh tak main sochta hoon shaam se | सुब्ह तक मैं सोचता हूँ शाम से - Ameer Qazalbash

subh tak main sochta hoon shaam se
jee raha hai kaun mere naam se

shehar mein sach bolta firta hoon main
log khaif hain mere anjaam se

raat bhar jaagega chauki-daar ek
aur sab so jaayenge aaraam se

sau baras ka ho gaya mera mazaar
ab nawaaza jaaun ga inaam se

saath laaunga thakan be-kaar ki
ghar se baahar ja raha hoon kaam se

naam le us ka safar aaghaaz kar
door rakh dil ko zara awhaam se

zindagi ki daud mein peeche na tha
rah gaya vo sirf do ik gaam se

सुब्ह तक मैं सोचता हूँ शाम से
जी रहा है कौन मेरे नाम से

शहर में सच बोलता फिरता हूँ मैं
लोग ख़ाइफ़ हैं मिरे अंजाम से

रात भर जागेगा चौकी-दार एक
और सब सो जाएँगे आराम से

सौ बरस का हो गया मेरा मज़ार
अब नवाज़ा जाऊँ गा इनआम से

साथ लाऊँगा थकन बे-कार की
घर से बाहर जा रहा हूँ काम से

नाम ले उस का सफ़र आग़ाज़ कर
दूर रख दिल को ज़रा औहाम से

ज़िंदगी की दौड़ में पीछे न था
रह गया वो सिर्फ़ दो इक गाम से

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Shaam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Shaam Shayari Shayari