shaam dhale jab basti waale laut ke ghar ko aate hain | शाम ढले जब बस्ती वाले लौट के घर को आते हैं - Amjad Islam Amjad

shaam dhale jab basti waale laut ke ghar ko aate hain
aahat aahat dastak dastak kya kya ham ghabraate hain

ahl-e-junoon to dil ki sada par jaan se apni ja bhi chuke
ahl-e-khirad ab jaane ham ko kya samjhaane aate hain

jaise rail ki har khidki ki apni apni duniya hai
kuchh manzar to ban nahin paate kuchh peeche rah jaate hain

jis ki har ik eent mein jazb hain un ke apne hi aansu
waaye ki ab vo ahl-e-dua hi is mehraab ko dhhaate hain

aaj ki shab to kat hi chali hai khwaabon aur saraabo mein
aane waale din ab dekhen kya manzar dikhlaate hain

saari umr hi dil se apna aisa kuchh bartaav raha
jaise khel mein haarne waale bacche ko bahaalate hain

naa-mumkin ko mumkin amjad ahl-e-wafa hi kar sakte hain
paani aur hawa par dekho kya kya naqsh banaate hain

शाम ढले जब बस्ती वाले लौट के घर को आते हैं
आहट आहट दस्तक दस्तक क्या क्या हम घबराते हैं

अहल-ए-जुनूँ तो दिल की सदा पर जान से अपनी जा भी चुके
अहल-ए-ख़िरद अब जाने हम को क्या समझाने आते हैं

जैसे रेल की हर खिड़की की अपनी अपनी दुनिया है
कुछ मंज़र तो बन नहीं पाते कुछ पीछे रह जाते हैं

जिस की हर इक ईंट में जज़्ब हैं उन के अपने ही आँसू
वाए कि अब वो अहल-ए-दुआ ही इस मेहराब को ढाते हैं

आज की शब तो कट ही चली है ख़्वाबों और सराबों में
आने वाले दिन अब देखें क्या मंज़र दिखलाते हैं

सारी उम्र ही दिल से अपना ऐसा कुछ बरताव रहा
जैसे खेल में हारने वाले बच्चे को बहलाते हैं

ना-मुम्किन को मुमकिन 'अमजद' अहल-ए-वफ़ा ही कर सकते हैं
पानी और हवा पर देखो क्या क्या नक़्श बनाते हैं

- Amjad Islam Amjad
0 Likes

Aahat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amjad Islam Amjad

As you were reading Shayari by Amjad Islam Amjad

Similar Writers

our suggestion based on Amjad Islam Amjad

Similar Moods

As you were reading Aahat Shayari Shayari