ye duniya duniya nai hai ik pinjra hai | ये दुनिया, दुनिया नइ है इक पिंजरा है - Anand Verma

ye duniya duniya nai hai ik pinjra hai
yaani har pinjare mein jhoothi duniya hai

jaane mein har rasta lamba lagta hai
aane mein par ghar jaldi aa jaata hai

khat ke oopar naam likha hai mera par
padhkar lagta hai ghalti se bheja hai

jisne dariya mein bas patthar fenke the
maine uske saamne sikka fenka hai

main samjha tha saamne tum hi baithi ho
gaur se dekha tab samjha aaina hai

tum mere kamre mein ruk sakti ho par
mere kamre mein bas ek hi takiya hai

ghar na jaane ke to sau sau raaste hai
ghar jaane ka lekin ek hi rasta hai

dekh raha hoon aag lagaakar baarish mein
aag bujhegi ya phir paani jalna hai

ये दुनिया, दुनिया नइ है इक पिंजरा है
यानी हर पिंजरे में झूठी दुनिया है

जाने में हर रस्ता लंबा लगता है
आने में पर घर जल्दी आ जाता है

ख़त के ऊपर नाम लिखा है मेरा, पर
पढ़कर लगता है ग़लती से भेजा है

जिसने दरिया में बस पत्थर फेंके थे
मैंने उसके सामने सिक्का फेंका है

मैं समझा था सामने तुम ही बैठी हो
गौर से देखा तब समझा आईना है

तुम मेरे कमरे में रुक सकती हो पर
मेरे कमरे में बस एक ही तकिया है

घर न जाने के तो सौ सौ रस्ते है
घर जाने का लेकिन एक ही रस्ता है

देख रहा हूँ आग लगाकर बारिश में
आग बुझेगी या फिर पानी जलना है

- Anand Verma
0 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Verma

As you were reading Shayari by Anand Verma

Similar Writers

our suggestion based on Anand Verma

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari