muhabbat mein hua aabaad koi | मुहब्बत में हुआ आबाद कोई - Anand Verma

muhabbat mein hua aabaad koi
muhabbat mein hua barbaad koi

main jiski baanh mein jee bhar ke rota
na pehle tha na hoga baad koi

rihaa kardo parindon ko fiza mein
ki ab baahar nahin sayyaad koi

main waapas hoon khada pairo'n pe apne
karo ab theek se barbaad koi

mera har sher keval hiz par hai
mila mujhko nahin ustaad koi

kiya tumko tha jaise yaad maine
kabhi karta mujhe bhi yaad koi

main duniya ghoom kar waapas hoon aaya
mila mujhsa nahin barbaad koi

sitaare kaid hai sab aasmaan mein
zara unko karo azaad koi

मुहब्बत में हुआ आबाद कोई
मुहब्बत में हुआ बर्बाद कोई

मैं जिसकी बाँह में जी भर के रोता
ना पहले था ना होगा बाद कोई

रिहा करदो परिंदों को फिज़ा में
कि अब बाहर नहीं सय्याद कोई

मैं वापस हूँ खड़ा पैरों पे अपने
करो अब ठीक से बर्बाद कोई

मेरा हर शेर केवल हिज़ पर है
मिला मुझको नहीं उस्ताद कोई

किया तुमको था जैसे याद मैंने
कभी करता मुझे भी याद कोई

मैं दुनिया घूम कर वापस हूँ आया
मिला मुझसा नहीं बर्बाद कोई

सितारे कैद है सब आसमाँ में
ज़रा उनको करो आज़ाद कोई

- Anand Verma
0 Likes

Broken Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Verma

As you were reading Shayari by Anand Verma

Similar Writers

our suggestion based on Anand Verma

Similar Moods

As you were reading Broken Shayari Shayari