jab ghoomte rahe faqat achhe ki chaah mein | जब घूमते रहे फ़क़त अच्छे की चाह में - Anand Verma

jab ghoomte rahe faqat achhe ki chaah mein
aadhe se haath dho liye paune ki chaah mein

gurbat thi isliye lagaaya dil kabhi nahin
guzri tamaam zindagi bose ki chaah mein

hamne ugaaye phool the titli ke vaaste
lekin vo ud gayi kisi bhanware ki chaah mein

sab zindagi se haar karke letne ke baad
karvat badal badal rahe sone ki chaah mein

dekhi hai jisne muflisi vo janta hai ye
roti ko bhoolte nahin kapde ki chaah mein

is baat ki khushi hai ke bas chal rahi hai saans
kuchh shauq ab rahe nahin jeene ki chaah mein

जब घूमते रहे फ़क़त अच्छे की चाह में
आधे से हाथ धो लिए, पौने की चाह में

गुरबत थी, इसलिए लगाया दिल कभी नहीं
गुज़री तमाम ज़िन्दगी बोसे की चाह में

हमनें उगाये फूल थे तितली के वास्ते
लेकिन वो उड़ गयी किसी भँवरे की चाह में

सब ज़िन्दगी से हार करके लेटने के बाद
करवट बदल बदल रहे सोने की चाह में

देखी है जिसने मुफ़लिसी वो जनता है ये
रोटी को भूलते नहीं कपड़े की चाह में

इस बात की खुशी है के बस चल रही है साँस
कुछ शौक़ अब रहे नहीं जीने की चाह में

- Anand Verma
1 Like

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Verma

As you were reading Shayari by Anand Verma

Similar Writers

our suggestion based on Anand Verma

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari