ik jism se jawaani aise bichhad rahi hai | इक जिस्म से जवानी ऐसे बिछड़ रही है - Anant Gupta

ik jism se jawaani aise bichhad rahi hai
jaise dulhan ki mehndi bistar pe jhad rahi hai

hathiyaar dale baitha haara hua ye ladka
aur vo haseen ladki duniya se lad rahi hai

tang aa chuke anant ab le le patang ana ki
main dheel de raha hoon ye aur akad rahi hai

इक जिस्म से जवानी ऐसे बिछड़ रही है
जैसे दुल्हन की मेहँदी बिस्तर पे झड़ रही है

हथियार डाले बैठा हारा हुआ ये लड़का
और वो हसीन लड़की दुनिया से लड़ रही है

तंग आ चुके "अनंत'' अब ले ले पतंग अना की
मैं ढील दे रहा हूँ ये और अकड़ रही है

- Anant Gupta
5 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anant Gupta

As you were reading Shayari by Anant Gupta

Similar Writers

our suggestion based on Anant Gupta

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari