paraaya kaun hai aur kaun apna sab bhula denge | पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे - Anwar Jalalpuri

paraaya kaun hai aur kaun apna sab bhula denge
mataaye zindagaani ek din hum bhi luta denge

tum apne saamne ki bheed se hokar guzar jaao
ki aage waale to har giz na tum ko raasta denge

jalaaye hain diye to phir hawao par nazar rakho
ye jhoken ek pal mein sab chiraago ko bujha denge

koi poochhega jis din waqai ye zindagi kya hai
zameen se ek mutthi khaak lekar hum uda denge

gila shikwa hasad keena ke tohfe meri kismat hai
mere ahbaab ab isse ziyaada aur kya denge

musalsal dhoop mein chalna chiraagon ki tarah jalna
ye hangaame to mujhko waqt se pehle thaka denge

agar tum aasmaan par ja rahe ho shauq se jaao
mere nakshe qadam aage ki manzil ka pata denge

पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे
मताए ज़िन्दगानी एक दिन हम भी लुटा देंगे

तुम अपने सामने की भीड़ से होकर गुज़र जाओ
कि आगे वाले तो हर गिज़ न तुम को रास्ता देंगे

जलाये हैं दिये तो फिर हवाओ पर नज़र रखो
ये झोकें एक पल में सब चिराग़ो को बुझा देंगे

कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िन्दगी क्या है
ज़मीं से एक मुठ्ठी ख़ाक लेकर हम उड़ा देंगे

गिला, शिकवा, हसद, कीना, के तोहफे मेरी किस्मत है
मेरे अहबाब अब इससे ज़ियादा और क्या देंगे

मुसलसल धूप में चलना चिराग़ों की तरह जलना
ये हंगामे तो मुझको वक़्त से पहले थका देंगे

अगर तुम आसमां पर जा रहे हो, शौक़ से जाओ
मेरे नक्शे क़दम आगे की मंज़िल का पता देंगे

- Anwar Jalalpuri
3 Likes

Hawa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anwar Jalalpuri

As you were reading Shayari by Anwar Jalalpuri

Similar Writers

our suggestion based on Anwar Jalalpuri

Similar Moods

As you were reading Hawa Shayari Shayari