nazar us chashm pe hai jaam liye baitha hoon | नज़र उस चश्म पे है जाम लिए बैठा हूँ - Arzoo Lakhnavi

nazar us chashm pe hai jaam liye baitha hoon
hai na peene ka ye matlab ki piye baitha hoon

rakha-andaazi-e-andoh se ghaafil nahin main
hai jigar chaak to kya hont siye baitha hoon

kya karoon dil ko jo lene nahin deta hai qaraar
jo muqaddar ne diya hai vo liye baitha hoon

iltifaat ai nigah-e-hosh-ruba ab kyun hai
paas jo kuch tha vo pehle se diye baitha hoon

dil-e-pur-kaif salaamat ki akela mein bhi
ek bottle se baghal garm kiye baitha hoon

aarzoo jalte hue dil ke sharaare hain ye ashk
aag paani ke katoron mein liye baitha hoon

नज़र उस चश्म पे है जाम लिए बैठा हूँ
है न पीने का ये मतलब कि पिए बैठा हूँ

रख़ना-अंदाज़ी-ए-अंदोह से ग़ाफ़िल नहीं मैं
है जिगर चाक तो क्या होंट सिए बैठा हूँ

क्या करूँ दिल को जो लेने नहीं देता है क़रार
जो मुक़द्दर ने दिया है वो लिए बैठा हूँ

इल्तिफ़ात ऐ निगह-ए-होश-रुबा अब क्यूँ है
पास जो कुछ था वो पहले से दिए बैठा हूँ

दिल-ए-पुर-कैफ़ सलामत कि अकेले में भी
एक बोतल से बग़ल गर्म किए बैठा हूँ

'आरज़ू' जलते हुए दिल के शरारे हैं ये अश्क
आग पानी के कटोरों में लिए बैठा हूँ

- Arzoo Lakhnavi
0 Likes

Nazar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Arzoo Lakhnavi

As you were reading Shayari by Arzoo Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Arzoo Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Nazar Shayari Shayari