dil de raha tha jo use be-dil bana diya | दिल दे रहा था जो उसे बे-दिल बना दिया - Arzoo Lakhnavi

dil de raha tha jo use be-dil bana diya
aasaan kaam aap ne mushkil bana diya

har saans ek shola hai har shola ek barq
kya tu ne mujh ko ai tapish-e-dil bana diya

is husn-e-zan pe hamsafaron ke hoon pa-b-gil
mujh be-khabar ko rahbar-e-manzil bana diya

andha hai shauq phir nazar imkaan par ho kyun
kaam apna dil ne aap hi mushkil bana diya

dauda lahu ragon mein bandhi zindagi ki aas
ye bhi bura nahin hai jo bismil bana diya

ghark o uboor dono ka haasil hai khatm-e-kaar
majbooriyon ne mauj ko saahil bana diya

us shaan-e-aajizi ke fida jis ne aarzoo
har naaz har ghuroor ke qaabil bana diya

दिल दे रहा था जो उसे बे-दिल बना दिया
आसान काम आप ने मुश्किल बना दिया

हर साँस एक शोला है हर शोला एक बर्क़
क्या तू ने मुझ को ऐ तपिश-ए-दिल बना दिया

इस हुस्न-ए-ज़न पे हम-सफ़रों के हूँ पा-ब-गिल
मुझ बे-ख़बर को रहबर-ए-मंज़िल बना दिया

अंधा है शौक़ फिर नज़र इम्कान पर हो क्यूँ
काम अपना दिल ने आप ही मुश्किल बना दिया

दौड़ा लहू रगों में बंधी ज़िंदगी की आस
ये भी बुरा नहीं है जो बिस्मिल बना दिया

ग़र्क़ ओ उबूर दोनों का हासिल है ख़त्म-ए-कार
मजबूरियों ने मौज को साहिल बना दिया

उस शान-ए-आजिज़ी के फ़िदा जिस ने 'आरज़ू'
हर नाज़ हर ग़ुरूर के क़ाबिल बना दिया

- Arzoo Lakhnavi
1 Like

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Arzoo Lakhnavi

As you were reading Shayari by Arzoo Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Arzoo Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari