padhiye sabq yahi hai wafa ki kitaab ka | पढ़िए सबक़ यही है वफ़ा की किताब का - Azhar Nawaz

padhiye sabq yahi hai wafa ki kitaab ka
kaante kara rahe hain ta'aruf gulaab ka

kaisa ye intishaar diyon ki safoon mein hai
kuchh to asar hua hai hawa ke khitaab ka

ye tay kiya jo main ne junoon tak main jaaunga
ye marhala ahem hai mere iztiraab ka

maana bahut haseen tha vo umr ka padaav
qissa magar na chhedie ahad-e-shabaab ka

azhar kahi se neend ka ab kijeye intizaam
yoonhi nikal na jaaye ye mausam bhi khwaab ka

पढ़िए सबक़ यही है वफ़ा की किताब का
काँटे करा रहे हैं तआरुफ़ गुलाब का

कैसा ये इंतिशार दियों की सफ़ों में है
कुछ तो असर हुआ है हवा के ख़िताब का

ये तय किया जो मैं ने जुनूँ तक मैं जाऊँगा
ये मरहला अहम है मिरे इज़्तिराब का

माना बहुत हसीन था वो उम्र का पड़ाव
क़िस्सा मगर न छेड़िए अहद-ए-शबाब का

'अज़हर' कहीं से नींद का अब कीजे इंतिज़ाम
यूँही निकल न जाए ये मौसम भी ख़्वाब का

- Azhar Nawaz
4 Likes

Pollution Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Azhar Nawaz

As you were reading Shayari by Azhar Nawaz

Similar Writers

our suggestion based on Azhar Nawaz

Similar Moods

As you were reading Pollution Shayari Shayari