dhoop ke jaate hi mar jaaunga main | धूप के जाते ही मर जाऊँगा मैं - Aziz Nabeel

dhoop ke jaate hi mar jaaunga main
ek saaya hoon bikhar jaaunga main

etibaar-e-dosti ka rang hoon
be-yaqeeni mein utar jaaunga main

din ka saara zahar pee kar aaj phir
raat ke bistar pe mar jaaunga main

phir kabhi tum se miloonga raasto
laut kar filhaal ghar jaaunga main

us se milne ki talab mein aaunga
aur bas yun hi guzar jaaunga main

main ki ilzaam-e-mohabbat hoon nabeel
kya khabar kis kis ke sar jaaunga main

धूप के जाते ही मर जाऊँगा मैं
एक साया हूँ बिखर जाऊँगा मैं

एतिबार-ए-दोस्ती का रंग हूँ
बे-यक़ीनी में उतर जाऊँगा मैं

दिन का सारा ज़हर पी कर, आज फिर
रात के बिस्तर पे मर जाऊँगा मैं

फिर कभी तुम से मिलूँगा रास्तो!
लौट कर फ़िलहाल घर जाऊँगा मैं

उस से मिलने की तलब में आऊँगा
और बस, यूँ ही गुज़र जाऊँगा मैं

मैं कि इल्ज़ाम-ए-मोहब्बत हूँ 'नबील'
क्या ख़बर किस किस के सर जाऊँगा मैं

- Aziz Nabeel
0 Likes

Diversity Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aziz Nabeel

As you were reading Shayari by Aziz Nabeel

Similar Writers

our suggestion based on Aziz Nabeel

Similar Moods

As you were reading Diversity Shayari Shayari