main dastaras se tumhaari nikal bhi saka hoon | मैं दस्तरस से तुम्हारी निकल भी सकता हूँ - Aziz Nabeel

main dastaras se tumhaari nikal bhi saka hoon
ye soch lo ki main rasta badal bhi saka hoon

tumhaare baad ye jaana ki main jo patthar tha
tumhaare baad kisi dam pighal bhi saka hoon

qalam hai haath mein kirdaar bhi mere bas mein
agar main chaahoon kahaani badal bhi saka hoon

meri sirishta mein vaise to khushk dariya hai
agar pukaar le sehra ubal bhi saka hoon

use kaho ki gurezaan na yun rahe mujh se
main ehtiyaat ki baarish mein jal bhi saka hoon

मैं दस्तरस से तुम्हारी निकल भी सकता हूँ
ये सोच लो कि मैं रस्ता बदल भी सकता हूँ

तुम्हारे बाद ये जाना कि मैं जो पत्थर था
तुम्हारे बाद किसी दम पिघल भी सकता हूँ

क़लम है हाथ में किरदार भी मिरे बस में
अगर मैं चाहूँ कहानी बदल भी सकता हूँ

मिरी सिरिश्त में वैसे तो ख़ुश्क दरिया है
अगर पुकार ले सहरा उबल भी सकता हूँ

उसे कहो कि गुरेज़ाँ न यूँ रहे मुझ से
मैं एहतियात की बारिश में जल भी सकता हूँ

- Aziz Nabeel
1 Like

Dariya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aziz Nabeel

As you were reading Shayari by Aziz Nabeel

Similar Writers

our suggestion based on Aziz Nabeel

Similar Moods

As you were reading Dariya Shayari Shayari