pyaar ki nayi dastak dil pe phir sunaai di | प्यार की नई दस्तक दिल पे फिर सुनाई दी - Bashir Badr

pyaar ki nayi dastak dil pe phir sunaai di
chaand si koi soorat khwaab mein dikhaai di

kis ne meri palkon pe titliyon ke par rakhe
aaj apni aahat bhi der tak sunaai di

ham gareeb logon ke aaj bhi wahi din hain
pehle kya aseeri thi aaj kya rihaai di

baarishon ke chehre par aansuon se likhna hai
kuchh na koi padh paaye aisi roshnai di

aasmaan zameen rakh kar dono ek mutthi mein
ik zara si ladki ne pyaar ki khudaai di

ye tunak-mizaaji to khair us ki fitrat mein hai
warna us ne chaahat bhi ham ko intihaai di

ye tanaav qudrat ne do dilon mein kyun rakha
mujh ko kaj-kulaahi di us ko kaj-adaai di

प्यार की नई दस्तक दिल पे फिर सुनाई दी
चाँद सी कोई सूरत ख़्वाब में दिखाई दी

किस ने मेरी पलकों पे तितलियों के पर रक्खे
आज अपनी आहट भी देर तक सुनाई दी

हम ग़रीब लोगों के आज भी वही दिन हैं
पहले क्या असीरी थी आज क्या रिहाई दी

बारिशों के चेहरे पर आँसुओं से लिखना है
कुछ न कोई पढ़ पाए ऐसी रौशनाई दी

आसमाँ ज़मीं रख कर दोनों एक मुट्ठी में
इक ज़रा सी लड़की ने प्यार की ख़ुदाई दी

ये तुनक-मिज़ाजी तो ख़ैर उस की फ़ितरत में है
वर्ना उस ने चाहत भी हम को इंतिहाई दी

ये तनाव क़ुदरत ने दो दिलों में क्यूँ रक्खा
मुझ को कज-कुलाही दी उस को कज-अदाई दी

- Bashir Badr
1 Like

Chaand Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Chaand Shayari Shayari