sar-e-raah kuchh bhi kaha nahin kabhi us ke ghar main gaya nahin | सर-ए-राह कुछ भी कहा नहीं कभी उस के घर मैं गया नहीं - Bashir Badr

sar-e-raah kuchh bhi kaha nahin kabhi us ke ghar main gaya nahin
main janam janam se usi ka hoon use aaj tak ye pata nahin

use paak nazaron se choomna bhi ibaadaton mein shumaar hai
koi phool laakh qareeb ho kabhi main ne us ko chhua nahin

ye khuda ki den ajeeb hai ki isee ka naam naseeb hai
jise tu ne chaaha vo mil gaya jise main ne chaaha mila nahin

isee shehar mein kai saal se mere kuchh qareebi aziz hain
unhen meri koi khabar nahin mujhe un ka koi pata nahin

सर-ए-राह कुछ भी कहा नहीं कभी उस के घर मैं गया नहीं
मैं जनम जनम से उसी का हूँ उसे आज तक ये पता नहीं

उसे पाक नज़रों से चूमना भी इबादतों में शुमार है
कोई फूल लाख क़रीब हो कभी मैं ने उस को छुआ नहीं

ये ख़ुदा की देन अजीब है कि इसी का नाम नसीब है
जिसे तू ने चाहा वो मिल गया जिसे मैं ने चाहा मिला नहीं

इसी शहर में कई साल से मिरे कुछ क़रीबी अज़ीज़ हैं
उन्हें मेरी कोई ख़बर नहीं मुझे उन का कोई पता नहीं

- Bashir Badr
18 Likes

Shahr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Shahr Shayari Shayari