hawa ne ism kuchh aisa padha tha | हवा ने इस्म कुछ ऐसा पढ़ा था - Dilawar Ali Aazar

hawa ne ism kuchh aisa padha tha
diya deewaar par chalne laga tha

main sehar-e-khwaab se utha to dekha
koi khidki mein suraj rakh gaya tha

khada tha muntazir dahleez par main
mujhe ik saaya milne aa raha tha

tire aane se ye uqda khula hai
main apne aap mein rakha hua tha

sabhi lafzon se tasveerein banaaiin
meri poron mein manzar rengta tha

mujhe tere iraadon ki khabar thi
so gahri neend mein bhi jaagta tha

main jab maidaan khaali kar ke aaya
mera dushman akela rah gaya tha

sabhi ke haath mein patthar the aazar
hamaare haath mein ik aaina tha

हवा ने इस्म कुछ ऐसा पढ़ा था
दिया दीवार पर चलने लगा था

मैं सेहर-ए-ख़्वाब से उट्ठा तो देखा
कोई खिड़की में सूरज रख गया था

खड़ा था मुंतज़िर दहलीज़ पर मैं
मुझे इक साया मिलने आ रहा था

तिरे आने से ये उक़्दा खुला है
मैं अपने आप में रक्खा हुआ था

सभी लफ़्ज़ों से तस्वीरें बनाईं
मिरी पोरों में मंज़र रेंगता था

मुझे तेरे इरादों की ख़बर थी
सो गहरी नींद में भी जागता था

मैं जब मैदान ख़ाली कर के आया
मिरा दुश्मन अकेला रह गया था

सभी के हाथ में पत्थर थे 'आज़र'
हमारे हाथ में इक आईना था

- Dilawar Ali Aazar
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dilawar Ali Aazar

As you were reading Shayari by Dilawar Ali Aazar

Similar Writers

our suggestion based on Dilawar Ali Aazar

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari