yahi to hai sukhun ke fan ka matlab | यही तो है सुख़न के फ़न का मतलब - Divakar divyank

yahi to hai sukhun ke fan ka matlab
yahan saawan nahin saawan ka matlab

kabhi aa jaao tum aankhon ke sammukh
inhen batlaao bhi darshan ka matlab

ana aur dharm aade aaya varna
pata tha bali ko bhi vaaman ka matlab

kise hai ishq ab ujde chaman se
kise batlaayein ham upvan ka matlab

use baanhon mein jab maine bhara tha
khula tha mujh pe tab dhadkan ka matlab

mukammal yaad hai tera bichadna
musalsal maut hai jeevan ka matlab

यही तो है सुख़न के फ़न का मतलब
यहाँ सावन नहीं सावन का मतलब

कभी आ जाओ तुम आँखों के सम्मुख
इन्हें बतलाओ भी दर्शन का मतलब

अना और धर्म आड़े आया वरना
पता था बलि को भी वामन का मतलब

किसे है इश्क़ अब उजड़े चमन से
किसे बतलाएँ हम उपवन का मतलब

उसे बाँहों में जब मैंने भरा था
खुला था मुझ पे तब धड़कन का मतलब

मुकम्मल याद है तेरा बिछड़ना
मुसलसल मौत है जीवन का मतलब

- Divakar divyank
0 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Divakar divyank

As you were reading Shayari by Divakar divyank

Similar Writers

our suggestion based on Divakar divyank

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari