khilte hue gulaab se aage kii cheez hai | खिलते हुए गुलाब से आगे की चीज़ है - Divakar divyank

khilte hue gulaab se aage kii cheez hai
vo husn mahtaab se aage kii cheez hai

ab bhi use ham apni ghazal mein na la sake
ab bhi vo intikhaab se aage kii cheez hai

koii bhi usmein aaj talak ho saka na paas
ye ishq har nisaab se aage kii cheez hai

jaata nahin khumaar phir iska tamaam umr
bosa-e-lab sharaab se aage kii cheez hai

shaair naya hai to ise kamtar na jaaniye
ye jugnoo aftaab se aage kii cheez hai

nazaron mein aaj sabki agar hoon main laajwaab
to phir vo laajwaab se aage kii cheez hai

खिलते हुए गुलाब से आगे की चीज़ है
वो हुस्न माहताब से आगे की चीज़ है

अब भी उसे हम अपनी ग़ज़ल में न ला सके
अब भी वो इंतिख़ाब से आगे की चीज़ है

कोई भी उसमें आज तलक हो सका न पास
ये इश्क़ हर निसाब से आगे की चीज़ है

जाता नहीं ख़ुमार फिर इसका तमाम उम्र
बोसा-ए-लब शराब से आगे की चीज़ है

शाइर नया है तो इसे कमतर न जानिए
ये जुगनू आफ़ताब से आगे की चीज़ है

नज़रों में आज सबकी अगर हूँ मैं लाजवाब
तो फिर वो लाजवाब से आगे की चीज़ है

- Divakar divyank
0 Likes

Sharaab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Divakar divyank

As you were reading Shayari by Divakar divyank

Similar Writers

our suggestion based on Divakar divyank

Similar Moods

As you were reading Sharaab Shayari Shayari