main jise odhta bichaata hoon | मैं जिसे ओढ़ता बिछाता हूँ - Dushyant Kumar

main jise odhta bichaata hoon
vo ghazal aap ko sunaata hoon

ek jungle hai teri aankhon mein
main jahaan raah bhool jaata hoon

tu kisi rail si guzarti hai
main kisi pul sa thartharaata hoon

har taraf e'itraaz hota hai
main agar raushni mein aata hoon

ek baazu ukhad gaya jab se
aur ziyaada vazn uthaata hoon

main tujhe bhoolne ki koshish mein
aaj kitne qareeb paata hoon

kaun ye fasla nibhaaega
main farishta hoon sach bataata hoon

मैं जिसे ओढ़ता बिछाता हूँ
वो ग़ज़ल आप को सुनाता हूँ

एक जंगल है तेरी आँखों में
मैं जहाँ राह भूल जाता हूँ

तू किसी रेल सी गुज़रती है
मैं किसी पुल सा थरथराता हूँ

हर तरफ़ ए'तिराज़ होता है
मैं अगर रौशनी में आता हूँ

एक बाज़ू उखड़ गया जब से
और ज़ियादा वज़न उठाता हूँ

मैं तुझे भूलने की कोशिश में
आज कितने क़रीब पाता हूँ

कौन ये फ़ासला निभाएगा
मैं फ़रिश्ता हूँ सच बताता हूँ

- Dushyant Kumar
16 Likes

Charity Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dushyant Kumar

As you were reading Shayari by Dushyant Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Dushyant Kumar

Similar Moods

As you were reading Charity Shayari Shayari