ek gudiya ki kai kath-putliyon mein jaan hai | एक गुड़िया की कई कठ-पुतलियों में जान है - Dushyant Kumar

ek gudiya ki kai kath-putliyon mein jaan hai
aaj sha'ir ye tamasha dekh kar hairaan hai

khaas sadken band hain tab se marammat ke liye
ye hamaare waqt ki sab se sahi pehchaan hai

ek boodha aadmi hai mulk mein ya yun kaho
is andheri kothri mein ek raushan-daan hai

maslahat-aamez hote hain siyaasat ke qadam
tu na samjhega siyaasat tu abhi naadaan hai

kal numaish mein mila vo cheethde pahne hue
main ne poocha naam to bola ki hindustan hai

एक गुड़िया की कई कठ-पुतलियों में जान है
आज शाइ'र ये तमाशा देख कर हैरान है

ख़ास सड़कें बंद हैं तब से मरम्मत के लिए
ये हमारे वक़्त की सब से सही पहचान है

एक बूढ़ा आदमी है मुल्क में या यूँ कहो
इस अँधेरी कोठरी में एक रौशन-दान है

मस्लहत-आमेज़ होते हैं सियासत के क़दम
तू न समझेगा सियासत तू अभी नादान है

कल नुमाइश में मिला वो चीथड़े पहने हुए
मैं ने पूछा नाम तो बोला कि हिंदुस्तान है

- Dushyant Kumar
8 Likes

Aahat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dushyant Kumar

As you were reading Shayari by Dushyant Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Dushyant Kumar

Similar Moods

As you were reading Aahat Shayari Shayari