guftam ki mukh tira kya guftaa suraj soon behtar | गुफ़्तम कि मुख तिरा क्या गुफ़्ता सुरज सूँ बेहतर - Faez Dehlvi

guftam ki mukh tira kya guftaa suraj soon behtar
guftam ki kaan ka dar guftaa ki bah z akhtar

guftam dehaan-o-ruyat guftaa ki guncha-o-gul
guftam kapool ka khaal guftaa ki qurs-e-ambaar

guftam ki chashm-e-jaadoo guftaa ki dono khanjar
guftam dhadi labaan ki guft az aqeeq behtar

guftam kapool tere guftaa ki barg-e-laala
guftam ki bosa tujh lab guftaa ki bah z shakkar

guftam ki bhounha teri guftaa hilaal dono
guftam ki zulf teri guftaa ki sumbul-e-tar

guftam gada hoon tera guftaa sahi munaasib
guftam aseer tujh koon guftaa tamaam kishwar

guftam ki qad tumhaara guftaa ki sarv-e-tannaaz
guftam ki dil tira kya guftaa ki sakht patthar

guftam ada-o-ghamza guftaa bala-e-jaan-ha
guftam itaab-o-qahrat guftaa ki haul-e-mahshar

guftam ki faaez aaya guftaa ki khair-maqdam
guftam kujaast jaa-ash guftaa ki bar-sar-e-dar

गुफ़्तम कि मुख तिरा क्या गुफ़्ता सुरज सूँ बेहतर
गुफ़्तम कि कान का दर गुफ़्ता कि बह ज़ अख़्तर

गुफ़्तम दहान-ओ-रूयत गुफ़्ता कि ग़ुंचा-ओ-गुल
गुफ़्तम कपोल का ख़ाल गुफ़्ता कि क़ुर्स-ए-अम्बर

गुफ़्तम कि चश्म-ए-जादू गुफ़्ता कि दोनों ख़ंजर
गुफ़्तम धड़ी लबाँ की गुफ़्त अज़ अक़ीक़ बेहतर

गुफ़्तम कपोल तेरे गुफ़्ता कि बर्ग-ए-लाला
गुफ़्तम कि बोसा तुझ लब गुफ़्ता कि बह ज़ शक्कर

गुफ़्तम कि भौंहा तेरी गुफ़्ता हिलाल दोनों
गुफ़्तम कि ज़ुल्फ़ तेरी गुफ़्ता कि सुंबुल-ए-तर

गुफ़्तम गदा हूँ तेरा गुफ़्ता सही मुनासिब
गुफ़्तम असीर तुझ कूँ गुफ़्ता तमाम किश्वर

गुफ़्तम कि क़द तुम्हारा गुफ़्ता कि सर्व-ए-तन्नाज़
गुफ़्तम कि दिल तिरा क्या गुफ़्ता कि सख़्त पत्थर

गुफ़्तम अदा-ओ-ग़म्ज़ा गुफ़्ता बला-ए-जाँ-हा
गुफ़्तम इताब-ओ-क़हरत गुफ़्ता कि हौल-ए-महशर

गुफ़्तम कि 'फ़ाएज़' आया गुफ़्ता कि ख़ैर-मक़्दम
गुफ़्तम कुजास्त जा-अश गुफ़्ता कि बर-सर-ए-दर

- Faez Dehlvi
0 Likes

Sach Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faez Dehlvi

As you were reading Shayari by Faez Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Faez Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Sach Shayari Shayari