jab sajeelay khiraam karte hain | जब सजीले ख़िराम करते हैं - Faez Dehlvi

jab sajeelay khiraam karte hain
har taraf qatl-e-aam karte hain

mukh dikha chhab bana libaas sanwaar
aashiqon ko ghulaam karte hain

ye chakore mil us sireejan soon
raat din apna kaam karte hain

yaar ko aashiqan-e-saahb-fan
ek dekhe mein raam karte hain

gardish-e-chashm soon sireejan sab
bazm mein kaar-e-jaam karte hain

ye nahin nek taur khooban ke
aashnaai ko aam karte hain

jee ko karte hain aashiqan tasleem
jab vo hans kar salaam karte hain

murgh-e-dil ke shikaar karne koon
zulf o kaakul ko daam karte hain

shokh mera butaan mein jab jaave
us ko apna imaam karte hain

khoob-roo aashna hain faaez ke
mil sabee raam raam karte hain

जब सजीले ख़िराम करते हैं
हर तरफ़ क़त्ल-ए-आम करते हैं

मुख दिखा छब बना लिबास सँवार
आशिक़ों को ग़ुलाम करते हैं

ये चकोरे मिल उस सिरीजन सूँ
रात दिन अपना काम करते हैं

यार को आशिक़ान-ए-साहब-फ़न
एक देखे में राम करते हैं

गर्दिश-ए-चश्म सूँ सिरीजन सब
बज़्म में कार-ए-जाम करते हैं

ये नहीं नेक तौर ख़ूबाँ के
आश्नाई को आम करते हैं

जी को करते हैं आशिक़ाँ तस्लीम
जब वो हँस कर सलाम करते हैं

मुर्ग़-ए-दिल के शिकार करने कूँ
ज़ुल्फ़ ओ काकुल को दाम करते हैं

शोख़ मेरा बुताँ में जब जावे
उस को अपना इमाम करते हैं

ख़ूब-रू आश्ना हैं 'फ़ाएज़' के
मिल सबी राम राम करते हैं

- Faez Dehlvi
0 Likes

Neend Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faez Dehlvi

As you were reading Shayari by Faez Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Faez Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Neend Shayari Shayari