tujh badan par jo laal saari hai | तुझ बदन पर जो लाल सारी है - Faez Dehlvi

tujh badan par jo laal saari hai
aql us ne meri bisaari hai

baal dekhe hain jab soon main tere
zulf si dil koon be-qaraari hai

qad alif sa hua mera jiyooun daal
ishq ka bojh sakht bhari hai

sab ke seene ko chhed daala hai
palk teri magar kataari hai

odhni udi par kanaari zard
gird shab ke suraj ki dhaari hai

qahar o lutf o tabassum-o-khanda
teri har ik ada piyaari hai

tirchi nazraan soon dekhna hans hans
mor se chaal tujh niyaari hai

zinda faaez ka dil hua tujh soon
husn tera bee faiz-e-baari hai

तुझ बदन पर जो लाल सारी है
अक़्ल उस ने मिरी बिसारी है

बाल देखे हैं जब सूँ मैं तेरे
ज़ुल्फ़ सी दिल कूँ बे-क़रारी है

क़द अलिफ़ सा हुआ मिरा जियूँ दाल
इश्क़ का बोझ सख़्त भारी है

सब के सीने को छेद डाला है
पल्क तेरी मगर कटारी है

ओढ़नी ऊदी पर कनारी ज़र्द
गिर्द शब के सुरज की धारी है

क़हर ओ लुत्फ़ ओ तबस्सुम-ओ-ख़ंदा
तेरी हर इक अदा पियारी है

तिरछी नज़राँ सूँ देखना हँस हँस
मोर से चाल तुझ नियारी है

ज़िंदा 'फ़ाएज़' का दिल हुआ तुझ सूँ
हुस्न तेरा बी फ़ैज़-ए-बारी है

- Faez Dehlvi
0 Likes

Dushman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faez Dehlvi

As you were reading Shayari by Faez Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Faez Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Dushman Shayari Shayari