yun saja chaand ki jhalkaa tire andaaz ka rang | यूँ सजा चाँद कि झलका तिरे अंदाज़ का रंग - Faiz Ahmad Faiz

yun saja chaand ki jhalkaa tire andaaz ka rang
yun fazaa mahki ki badla mere hamraaz ka rang

saaya-e-chashm mein hairaan rukh-e-raushan ka jamaal
surkhi-e-lab mein pareshaan tiri awaaz ka rang

be-piye hoon ki agar lutf karo aakhir-e-shab
sheesha-e-may mein dhale subh ke aaghaaz ka rang

chang o nay rang pe the apne lahu ke dam se
dil ne lay badli to madhham hua har saaz ka rang

ik sukhun aur ki phir rang-e-takallum tera
harf-e-saada ko inaayat kare ej'aaz ka rang

यूँ सजा चाँद कि झलका तिरे अंदाज़ का रंग
यूँ फ़ज़ा महकी कि बदला मिरे हमराज़ का रंग

साया-ए-चश्म में हैराँ रुख़-ए-रौशन का जमाल
सुर्ख़ी-ए-लब में परेशाँ तिरी आवाज़ का रंग

बे-पिए हूँ कि अगर लुत्फ़ करो आख़िर-ए-शब
शीशा-ए-मय में ढले सुब्ह के आग़ाज़ का रंग

चंग ओ नय रंग पे थे अपने लहू के दम से
दिल ने लय बदली तो मद्धम हुआ हर साज़ का रंग

इक सुख़न और कि फिर रंग-ए-तकल्लुम तेरा
हर्फ़-ए-सादा को इनायत करे ए'जाज़ का रंग

- Faiz Ahmad Faiz
0 Likes

Adaa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faiz Ahmad Faiz

As you were reading Shayari by Faiz Ahmad Faiz

Similar Writers

our suggestion based on Faiz Ahmad Faiz

Similar Moods

As you were reading Adaa Shayari Shayari