kuch na kuch ishq ki taaseer ka iqaar to hai | कुछ न कुछ इश्क़ की तासीर का इक़रार तो है - Firaq Gorakhpuri

kuch na kuch ishq ki taaseer ka iqaar to hai
us ka ilzaam-e-taghaful pe kuch inkaar to hai

har fareb-e-gham-e-duniya se khabar-daar to hai
tera deewaana kisi kaam mein hushyaar to hai

dekh lete hain sabhi kuch tire mushtaqa-e-jamaal
khair deedaar na ho hasrat-e-deedaar to hai

maarake sar hon usi barq-e-nazar se ai husn
ye chamakti hui chalti hui talwaar to hai

sar patkane ko patkata hai magar ruk ruk kar
tere wahshi ko khayaal-e-dar-o-deewaar to hai

ishq ka shikwa-e-beja bhi na be-kaar gaya
na sahi jor magar jor ka iqaar to hai

tujh se himmat to padi ishq ko kuch kehne ki
khair shikwa na sahi shukr ka izhaar to hai

is mein bhi raabta-e-khaas ki milti hai jhalak
khair iqaar-e-mohabbat na ho inkaar to hai

kyun jhapak jaati hai rah rah ke tiri barq-e-nigaah
ye jhijak kis liye ik kushta-e-deedaar to hai

kai unwaan hain mamnoon-e-karam karne ke
ishq mein kuch na sahi zindagi be-kaar to hai

sehar-o-shaam sar-e-anjuman-e-naaz na ho
jalwa-e-husn to hai ishq-e-siyahkaar to hai

chaunk uthte hain firaq aate hi us shokh ka naam
kuch saraasimagi-e-ishq ka iqaar to hai

कुछ न कुछ इश्क़ की तासीर का इक़रार तो है
उस का इल्ज़ाम-ए-तग़ाफ़ुल पे कुछ इंकार तो है

हर फ़रेब-ए-ग़म-ए-दुनिया से ख़बर-दार तो है
तेरा दीवाना किसी काम में हुश्यार तो है

देख लेते हैं सभी कुछ तिरे मुश्ताक़-ए-जमाल
ख़ैर दीदार न हो हसरत-ए-दीदार तो है

माअरके सर हों उसी बर्क़-ए-नज़र से ऐ हुस्न
ये चमकती हुई चलती हुइ तलवार तो है

सर पटकने को पटकता है मगर रुक रुक कर
तेरे वहशी को ख़याल-ए-दर-ओ-दीवार तो है

इश्क़ का शिकवा-ए-बेजा भी न बे-कार गया
न सही जौर मगर जौर का इक़रार तो है

तुझ से हिम्मत तो पड़ी इश्क़ को कुछ कहने की
ख़ैर शिकवा न सही शुक्र का इज़हार तो है

इस में भी राबता-ए-ख़ास की मिलती है झलक
ख़ैर इक़रार-ए-मोहब्बत न हो इंकार तो है

क्यूँ झपक जाती है रह रह के तिरी बर्क़-ए-निगाह
ये झिजक किस लिए इक कुश्ता-ए-दीदार तो है

कई उन्वान हैं मम्नून-ए-करम करने के
इश्क़ में कुछ न सही ज़िंदगी बे-कार तो है

सहर-ओ-शाम सर-ए-अंजुमन-ए-नाज़ न हो
जल्वा-ए-हुस्न तो है इश्क़-ए-सियहकार तो है

चौंक उठते हैं 'फ़िराक़' आते ही उस शोख़ का नाम
कुछ सरासीमगी-ए-इश्क़ का इक़रार तो है

- Firaq Gorakhpuri
0 Likes

Husn Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Firaq Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Firaq Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Firaq Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Husn Shayari Shayari