umr jo be-khudi mein guzri hai | उम्र जो बे-ख़ुदी में गुज़री है - Gulzar Dehlvi

umr jo be-khudi mein guzri hai
bas wahi aagahi mein guzri hai

koi mauj-e-naseem se pooche
kaisi aawaargi mein guzri hai

un ki bhi rah saki na daraai
jin ki askandari mein guzri hai

aasraa un ki rahbari thehri
jin ki khud rahzani mein guzri hai

aas ke jugnuo sada kis ki
zindagi raushni mein guzri hai

ham-nasheeni pe fakhr kar naadaan
sohbat-e-aadmi mein guzri hai

yun to shayar bahut se guzre hain
apni bhi shayari mein guzri hai

meer ke baad ghalib o iqbaal
ik sada ik sadi mein guzri hai

उम्र जो बे-ख़ुदी में गुज़री है
बस वही आगही में गुज़री है

कोई मौज-ए-नसीम से पूछे
कैसी आवारगी में गुज़री है

उन की भी रह सकी न दाराई
जिन की अस्कंदरी में गुज़री है

आसरा उन की रहबरी ठहरी
जिन की ख़ुद रहज़नी में गुज़री है

आस के जुगनुओ सदा किस की
ज़िंदगी रौशनी में गुज़री है

हम-नशीनी पे फ़ख़्र कर नादाँ
सोहबत-ए-आदमी में गुज़री है

यूँ तो शायर बहुत से गुज़रे हैं
अपनी भी शायरी में गुज़री है

मीर के बाद ग़ालिब ओ इक़बाल
इक सदा, इक सदी में गुज़री है

- Gulzar Dehlvi
0 Likes

Tevar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar Dehlvi

As you were reading Shayari by Gulzar Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Tevar Shayari Shayari