darakht sookh gaye ruk gaye nadi naale | दरख़्त सूख गए रुक गए नदी नाले - Habib Jalib

darakht sookh gaye ruk gaye nadi naale
ye kis nagar ko ravana hue hain ghar waale

kahaaniyaan jo sunaate the ahd-e-rafta ki
nishaan vo gardish-e-ayyaam ne mita dale

main shehar shehar fira hoon isee tamannaa mein
kisi ko apna kahoon koi mujh ko apna le

sada na de kisi mahtaab ko andheron mein
laga na de ye zamaana zabaan par taale

koi kiran hai yahan to koi kiran hai wahan
dil o nigaah ne kis darja rog hain pale

humeen pe un ki nazar hai humeen pe un ka karam
ye aur baat yahan aur bhi hain dil waale

kuchh aur tujh pe khulengi haqeeqaten jaalib
jo ho sake to kisi ka fareb bhi kha le

दरख़्त सूख गए रुक गए नदी नाले
ये किस नगर को रवाना हुए हैं घर वाले

कहानियाँ जो सुनाते थे अहद-ए-रफ़्ता की
निशाँ वो गर्दिश-ए-अय्याम ने मिटा डाले

मैं शहर शहर फिरा हूँ इसी तमन्ना में
किसी को अपना कहूँ कोई मुझ को अपना ले

सदा न दे किसी महताब को अंधेरों में
लगा न दे ये ज़माना ज़बान पर ताले

कोई किरन है यहाँ तो कोई किरन है वहाँ
दिल ओ निगाह ने किस दर्जा रोग हैं पाले

हमीं पे उन की नज़र है हमीं पे उन का करम
ये और बात यहाँ और भी हैं दिल वाले

कुछ और तुझ पे खुलेंगी हक़ीक़तें 'जालिब'
जो हो सके तो किसी का फ़रेब भी खा ले

- Habib Jalib
1 Like

Pandemic Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Pandemic Shayari Shayari