she'r hota hai ab maheenon mein | शे'र होता है अब महीनों में - Habib Jalib

she'r hota hai ab maheenon mein
zindagi dhal gai masheenon mein

pyaar ki raushni nahin milti
un makaanon mein un makeenon mein

dekh kar dosti ka haath badhaao
saanp hote hain aasteenon mein

qahar ki aankh se na dekh in ko
dil dhadakte hain aabgeenon mein

aasmaanon ki khair ho yaarab
ik naya azm hai zameenon mein

vo mohabbat nahin rahi jaalib
ham-safeeron mein ham-nasheeno mein

शे'र होता है अब महीनों में
ज़िंदगी ढल गई मशीनों में

प्यार की रौशनी नहीं मिलती
उन मकानों में उन मकीनों में

देख कर दोस्ती का हाथ बढ़ाओ
साँप होते हैं आस्तीनों में

क़हर की आँख से न देख इन को
दिल धड़कते हैं आबगीनों में

आसमानों की ख़ैर हो यारब
इक नया अज़्म है ज़मीनों में

वो मोहब्बत नहीं रही 'जालिब'
हम-सफ़ीरों में हम-नशीनों में

- Habib Jalib
3 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari