in gesuon mein shaana-e-arman na kijie | इन गेसुओं में शाना-ए-अरमाँ न कीजिए - Hafeez Jalandhari

in gesuon mein shaana-e-arman na kijie
khoon-e-jigar se daawat-e-mizgan na kijie

mar jaaie na kijie zikr-e-behisht-o-hoor
ab khwaab ko bhi khwaab-e-pareshaan na kijie

baaki ho jo bhi hashr yahin par uthaiye
marne ke b'ad zeest ka saamaan na kijie

dozakh ko deejie na paraagandagi meri
sheeraza-e-behisht pareshaan na kijie

shaayad yahi jahaan kisi majnoon ka ghar bane
veeraana bhi agar hai to veeraan na kijie

kya nakhuda baghair koi doobta nahin
mujh ko mere khuda se pashemaan na kijie

hai but-kade mein bhi use eimaan ka khayal
kyun e'tibaar-e-mard-e-muslmaan na kijie

ham se ye baar-e-lutf uthaya na jaayega
ehsaan ye kijie ki ye ehsaan na kijie

aaina dekhiye meri soorat na dekhiye
main aaina nahin mujhe hairaan na kijie

tu hi azeez-e-khaatir-e-ahbaab hai hafiz
kya kijie agar tujhe qurbaan na kijie

इन गेसुओं में शाना-ए-अरमाँ न कीजिए
ख़ून-ए-जिगर से दावत-ए-मिज़्गाँ न कीजिए

मर जाइए न कीजिए ज़िक्र-ए-बहिश्त-ओ-हूर
अब ख़्वाब को भी ख़्वाब-ए-परेशाँ न कीजिए

बाक़ी हो जो भी हश्र यहीं पर उठाइए
मरने के ब'अद ज़ीस्त का सामाँ न कीजिए

दोज़ख़ को दीजिए न परागंदगी मिरी
शीराज़ा-ए-बहिश्त परेशाँ न कीजिए

शायद यही जहाँ किसी मजनूँ का घर बने
वीराना भी अगर है तो वीराँ न कीजिए

क्या नाख़ुदा बग़ैर कोई डूबता नहीं
मुझ को मिरे ख़ुदा से पशेमाँ न कीजिए

है बुत-कदे में भी उसे ईमान का ख़याल
क्यूँ ए'तिबार-ए-मर्द-ए-मुसलमाँ न कीजिए

हम से ये बार-ए-लुत्फ़ उठाया न जाएगा
एहसाँ ये कीजिए कि ये एहसाँ न कीजिए

आईना देखिए मिरी सूरत न देखिए
मैं आईना नहीं मुझे हैराँ न कीजिए

तू ही अज़ीज़-ए-ख़ातिर-ए-अहबाब है 'हफ़ीज़'
क्या कीजिए अगर तुझे क़ुर्बां न कीजिए

- Hafeez Jalandhari
0 Likes

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari