koi chaarha nahin dua ke siva | कोई चारह नहीं दुआ के सिवा - Hafeez Jalandhari

koi chaarha nahin dua ke siva
koi sunta nahin khuda ke siva

mujh se kya ho saka wafa ke siva
mujh ko milta bhi kya saza ke siva

bar-sar-e-saahil muraad yahan
koi ubhara hai nakhuda ke siva

koi bhi to dikhaao manzil par
jis ko dekha ho rehnuma ke siva

dil sabhi kuchh zabaan par laaya
ik faqat arz-e-muddaa ke siva

koi raazi na rah saka mujh se
mere allah tiri raza ke siva

but-kade se chale ho kaabe ko
kya milega tumhein khuda ke siva

doston ke ye mukhlisaana teer
kuchh nahin meri hi khata ke siva

mehr o mah se buland ho kar bhi
nazar aaya na kuchh khala ke siva

ai hafiz aah aah par aakhir
kya kahein dost waah vaa ke siva

कोई चारह नहीं दुआ के सिवा
कोई सुनता नहीं ख़ुदा के सिवा

मुझ से क्या हो सका वफ़ा के सिवा
मुझ को मिलता भी क्या सज़ा के सिवा

बर-सर-ए-साहिल मुराद यहाँ
कोई उभरा है नाख़ुदा के सिवा

कोई भी तो दिखाओ मंज़िल पर
जिस को देखा हो रहनुमा के सिवा

दिल सभी कुछ ज़बान पर लाया
इक फ़क़त अर्ज़-ए-मुद्दआ के सिवा

कोई राज़ी न रह सका मुझ से
मेरे अल्लाह तिरी रज़ा के सिवा

बुत-कदे से चले हो काबे को
क्या मिलेगा तुम्हें ख़ुदा के सिवा

दोस्तों के ये मुख़्लिसाना तीर
कुछ नहीं मेरी ही ख़ता के सिवा

मेहर ओ मह से बुलंद हो कर भी
नज़र आया न कुछ ख़ला के सिवा

ऐ 'हफ़ीज़' आह आह पर आख़िर
क्या कहें दोस्त वाह वा के सिवा

- Hafeez Jalandhari
0 Likes

Friendship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading Friendship Shayari Shayari