mujhe shaad rakhna ki naashaad rakhna | मुझे शाद रखना कि नाशाद रखना - Hafeez Jalandhari

mujhe shaad rakhna ki naashaad rakhna
mere deeda o dil ko aabaad rakhna

bhulaai nahin ja sakengi ye baatein
tumhein yaad aayenge hum yaad rakhna

vo naashaad o barbaad rakhte hain mujh ko
ilaahi unhen shaad o aabaad rakhna

tumhein bhi qasam hai ki jo sar jhuka de
usi ko tah-e-tegh-e-bedad rakhna

milenge tumhein raah mein but-kade bhi
zara apne allah ko yaad rakhna

jahaan bhi nashe mein qadam larkhadaayein
wahi ek masjid ki buniyaad rakhna

sitaaron pe chalte hue ibn-e-aadam
nazar mein farishton ki uftaad rakhna

hafiz apne afkaar ki saadgi ko
takalluf ki uljhan se azaad rakhna

मुझे शाद रखना कि नाशाद रखना
मिरे दीदा ओ दिल को आबाद रखना

भुलाई नहीं जा सकेंगी ये बातें
तुम्हें याद आएँगे हम याद रखना

वो नाशाद ओ बर्बाद रखते हैं मुझ को
इलाही उन्हें शाद ओ आबाद रखना

तुम्हें भी क़सम है कि जो सर झुका दे
उसी को तह-ए-तेग़-ए-बेदाद रखना

मिलेंगे तुम्हें राह में बुत-कदे भी
ज़रा अपने अल्लाह को याद रखना

जहाँ भी नशे में क़दम लड़खड़ाएँ
वहीं एक मस्जिद की बुनियाद रखना

सितारों पे चलते हुए इब्न-ए-आदम
नज़र में फ़रिश्तों की उफ़्ताद रखना

'हफ़ीज़' अपने अफ़्कार की सादगी को
तकल्लुफ़ की उलझन से आज़ाद रखना

- Hafeez Jalandhari
0 Likes

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading undefined Shayari