kisi ke hijr mein yun toot kar roya nahin karte | किसी के हिज्र में यूँ टूट कर रोया नहीं करते - Hasan Abbas Raza

kisi ke hijr mein yun toot kar roya nahin karte
ye apna ranj hai aur ranj ka charcha nahin karte

judaai ki rutoon mein sooraten dhundlaane lagti hain
so aise mausamon mein aaina dekha nahin karte

ziyaada se ziyaada dil bichha dete hain raaste mein
magar jis ne bichadna ho use roka nahin karte

hamesha ik masafat ghoomti rahti hai paanv mein
safar ke b'ad bhi kuchh log ghar pahuncha nahin karte

tanee rassi pe dariya paar utarna hi muqaddar ho
to phir seenon mein garkaabi ka dar rakha nahin karte

hamein rusva kiya is neend mein chalne ki aadat ne
wagarana jaagte mein ham kabhi aisa nahin karte

hasan jab ladkhada kar apne hi paanv pe girna ho
to phir edi pe itni der tak ghooma nahin karte

किसी के हिज्र में यूँ टूट कर रोया नहीं करते
ये अपना रंज है और रंज का चर्चा नहीं करते

जुदाई की रुतों में सूरतें धुँदलाने लगती हैं
सो ऐसे मौसमों में आइना देखा नहीं करते

ज़ियादा से ज़ियादा दिल बिछा देते हैं रस्ते में
मगर जिस ने बिछड़ना हो उसे रोका नहीं करते

हमेशा इक मसाफ़त घूमती रहती है पाँव में
सफ़र के ब'अद भी कुछ लोग घर पहुँचा नहीं करते

तनी रस्सी पे दरिया पार उतरना ही मुक़द्दर हो
तो फिर सीनों में गर्क़ाबी का डर रक्खा नहीं करते

हमें रुस्वा किया इस नींद में चलने की आदत ने
वगरना जागते में हम कभी ऐसा नहीं करते

'हसन' जब लड़खड़ा कर अपने ही पाँव पे गिरना हो
तो फिर एड़ी पे इतनी देर तक घूमा नहीं करते

- Hasan Abbas Raza
0 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Hasan Abbas Raza

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari