chupke chupke raat din aansoo bahaana yaad hai | चुपके चुपके रात दिन आंसू बहाना याद है - Hasrat Mohani

chupke chupke raat din aansoo bahaana yaad hai
hum ko ab tak aashiqi ka vo zamaana yaad hai

baa-hazaaraniztiraab o sad-hazaaranishtiyaq
tujh se vo pahle-pahl dil ka lagana yaad hai

baar baar uthna usi jaanib nigaah-e-shauq ka
aur tira gurfe se vo aankhen ladna yaad hai

tujh se kuch milte hi vo bebaak ho jaana mera
aur tira daanton mein vo ungli dabana yaad hai

kheench lena vo mera parde ka kona dafa'atan
aur dupatte se tira vo munh chhupaana yaad hai

jab siva mere tumhaara koi deewaana na tha
sach kaho kuch tum ko bhi vo kaar-khaana yaad hai

gair ki nazaron se bach kar sab ki marzi ke khilaaf
vo tira chori-chhupi raaton ko aana yaad hai

aa gaya gar vasl ki shab bhi kahi zikr-e-firaq
vo tira ro ro ke mujh ko bhi rulaana yaad hai

dopahar ki dhoop mein mere bulane ke liye
vo tira kothe pe nange paanv aana yaad hai

aaj tak nazaron mein hai vo sohbat-e-raaz-o-niyaaz
apna jaana yaad hai tera bulaana yaad hai

meethi meethi chhed kar baatein niraali pyaar ki
zikr dushman ka vo baaton mein udhaana yaad hai

dekhna mujh ko jo bargashta to sau sau naaz se
jab manaa lena to phir khud rooth jaana yaad hai

berukhi ke saath sunna dard-e-dil ki daastaan
aur kalaaee mein teri vo kangan ghumaana yaad hai

chori chori hum se tum aa kar mile the jis jagah
muddatein guzriin par ab tak vo thikaana yaad hai

shauq mein mehndi ke vo be-dast-o-pa hona tira
aur mera vo chhedna vo gudgudaana yaad hai

baawajood-e-iddiya-e-ittiqaa hasrat mujhe
aaj tak ahad-e-hawas ka vo fasana yaad hai

चुपके चुपके रात दिन आंसू बहाना याद है
हम को अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है

बा-हज़ारांइज़्तिराब ओ सद-हज़ारांइश्तियाक़
तुझ से वो पहले-पहल दिल का लगाना याद है

बार बार उठना उसी जानिब निगाह-ए-शौक़ का
और तिरा ग़ुर्फ़े से वो आंखें लड़ाना याद है

तुझ से कुछ मिलते ही वो बेबाक हो जाना मिरा
और तिरा दांतों में वो उंगली दबाना याद है

खींच लेना वो मिरा पर्दे का कोना दफ़अ'तन
और दुपट्टे से तिरा वो मुंह छुपाना याद है

जब सिवा मेरे तुम्हारा कोई दीवाना न था
सच कहो कुछ तुम को भी वो कार-ख़ाना याद है

ग़ैर की नज़रों से बच कर सब की मर्ज़ी के ख़िलाफ़
वो तिरा चोरी-छुपे रातों को आना याद है

आ गया गर वस्ल की शब भी कहीं ज़िक्र-ए-फ़िराक़
वो तिरा रो रो के मुझ को भी रुलाना याद है

दोपहर की धूप में मेरे बुलाने के लिए
वो तिरा कोठे पे नंगे पांव आना याद है

आज तक नज़रों में है वो सोहबत-ए-राज़-ओ-नियाज़
अपना जाना याद है तेरा बुलाना याद है

मीठी मीठी छेड़ कर बातें निराली प्यार की
ज़िक्र दुश्मन का वो बातों में उड़ाना याद है

देखना मुझ को जो बरगश्ता तो सौ सौ नाज़ से
जब मना लेना तो फिर ख़ुद रूठ जाना याद है

बेरुखी के साथ सुनना दर्द-ए-दिल की दास्तां
और कलाई में तेरी वो कंगन घुमाना याद है

चोरी चोरी हम से तुम आ कर मिले थे जिस जगह
मुद्दतें गुज़रीं पर अब तक वो ठिकाना याद है

शौक़ में मेहंदी के वो बे-दस्त-ओ-पा होना तिरा
और मिरा वो छेड़ना वो गुदगुदाना याद है

बावजूद-ए-इद्दिया-ए-इत्तिक़ा 'हसरत' मुझे
आज तक अहद-ए-हवस का वो फ़साना याद है

- Hasrat Mohani
1 Like

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari