tujh se girveeda yak zamaana raha | तुझ से गिरवीदा यक ज़माना रहा - Hasrat Mohani

tujh se girveeda yak zamaana raha
kuchh faqat main hi mubtala na raha

aap ko ab hui hai qadr-e-wafa
jab ki main laaiq-e-jafa na raha

raah-o-rasm-e-wafa vo bhool gaye
ab hamein bhi koi gila na raha

husn khud ho gaya ghareeb-nawaaz
ishq muhtaaj-e-iltija na raha

bas-ki nazzara-soz tha vo jamaal
hosh-e-nazzaragi baja na raha

main kabhi tujh se bad-gumaan na hua
tu kabhi mujh se aashna na raha

aap ka shauq bhi to ab dil mein
aap ki yaad ke siva na raha

aur bhi ho gaye vo ghaafil-e-khwaab
naala-e-subh-e-na-rasa na raha

husn ka naaz aashiqi ka niyaaz
ab to kuchh bhi vo maajra na raha

ishq jab shikwa sanj-e-husn hua
iltijaa ho gai gila na raha

ham bharose pe un ke baith rahe
jab kisi ka bhi aasraa na raha

mere gham ki hui unhen bhi khabar
ab to ye dard la-dava na raha

aarzoo teri barqaraar rahe
dil ka kya hai raha raha na raha

ho gaye khatm mujh pe zor-e-falak
ab koi morid-e-bala na raha

jab se dekhi abul-kalaam ki nasr
nazzm-e-hasrat mein bhi maza na raha

तुझ से गिरवीदा यक ज़माना रहा
कुछ फ़क़त मैं ही मुब्तला न रहा

आप को अब हुई है क़द्र-ए-वफ़ा
जब कि मैं लाइक़-ए-जफ़ा न रहा

राह-ओ-रस्म-ए-वफ़ा वो भूल गए
अब हमें भी कोई गिला न रहा

हुस्न ख़ुद हो गया ग़रीब-नवाज़
इश्क़ मुहताज-ए-इल्तेजा न रहा

बस-कि नज़्ज़ारा-सोज़ था वो जमाल
होश-ए-नज़्ज़ारगी बजा न रहा

मैं कभी तुझ से बद-गुमाँ न हुआ
तू कभी मुझ से आश्ना न रहा

आप का शौक़ भी तो अब दिल में
आप की याद के सिवा न रहा

और भी हो गए वो ग़ाफ़िल-ए-ख़्वाब
नाला-ए-सुब्ह-ए-ना-रसा न रहा

हुस्न का नाज़ आशिक़ी का नियाज़
अब तो कुछ भी वो माजरा न रहा

इश्क़ जब शिकवा संज-ए-हुस्न हुआ
इल्तिजा हो गई गिला न रहा

हम भरोसे पे उन के बैठ रहे
जब किसी का भी आसरा न रहा

मेरे ग़म की हुई उन्हें भी ख़बर
अब तो ये दर्द ला-दवा न रहा

आरज़ू तेरी बरक़रार रहे
दिल का क्या है रहा रहा न रहा

हो गए ख़त्म मुझ पे जौर-ए-फ़लक
अब कोई मोरिद-ए-बला न रहा

जब से देखी अबुल-कलाम की नस्र
नज़्म-ए-'हसरत' में भी मज़ा न रहा

- Hasrat Mohani
1 Like

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari