tumko koi baat batakar jaane mujhko kya hota hai | तुमको कोई बात बताकर जाने मुझको क्या होता है - Himanshu Kiran Sharma

tumko koi baat batakar jaane mujhko kya hota hai
tum bas haan mein haan karte ho mera jee halka hota hai

ek shikaari ki nazon mein vaise jaane kya hota hai
panchi khud-b-khud aata hai teer jidhar chalna hota hai

ghar mein azaadi hoti hai jis ghar me ladka hota hai
pinjare mein chidiyaan rahti hai usko dekh ke dukh hota hai

ek baat ke peeche jaane kiska kya makasad hota hai
ham ko vo achha lagta hai jo sach me achha hota hai

jismein zarf bachi hoti hai vo utna hi chup hota hai
varna shor to barpa hi hai ye hota hai vo hota hai

तुमको कोई बात बताकर जाने मुझको क्या होता है
तुम बस हाँ में हाँ करते हो, मेरा 'जी' हल्का होता है

एक शिकारी की नज़रों में, वैसे जाने क्या होता है
पंछी ख़ुद-ब-ख़ुद आता है तीर जिधर चलना होता है

घर में आज़ादी होती है, जिस घर मे लड़का होता है
पिंजरे में चिड़ियां रहती है उसको देख के दुःख होता है

एक बात के पीछे जाने किसका क्या मकसद होता है
हम को वो अच्छा लगता है जो सच मे अच्छा होता है

जिसमें ज़र्फ़ बची होती है वो उतना ही चुप होता है
वरना शोर तो बरपा ही है, ये होता है वो होता है

- Himanshu Kiran Sharma
0 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Himanshu Kiran Sharma

As you were reading Shayari by Himanshu Kiran Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Himanshu Kiran Sharma

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari