insha'-ji utho ab kooch karo is shehar mein jee ko lagana kya | 'इंशा'-जी उठो अब कूच करो इस शहर में जी को लगाना क्या - Ibn E Insha

insha'-ji utho ab kooch karo is shehar mein jee ko lagana kya
wahshi ko sukoon se kya matlab jogi ka nagar mein thikaana kya

is dil ke dareeda daaman ko dekho to sahi socho to sahi
jis jholi mein sau chhed hue us jholi ka failaana kya

shab beeti chaand bhi doob chala zanjeer padi darwaaze mein
kyun der gaye ghar aaye ho sajni se karoge bahaana kya

phir hijr ki lambi raat miyaan sanjog ki to yahi ek ghadi
jo dil mein hai lab par aane do sharmaana kya ghabraana kya

us roz jo un ko dekha hai ab khwaab ka aalam lagta hai
us roz jo un se baat hui vo baat bhi thi afsaana kya

us husn ke sacche moti ko ham dekh saken par choo na saken
jise dekh saken par choo na saken vo daulat kya vo khazana kya

us ko bhi jala dukhte hue man ik shola laal bhobooka ban
yun aansu ban bah jaana kya yun maati mein mil jaana kya

jab shehar ke log na rasta den kyun ban mein na ja bisraam kare
deewaanon ki si na baat kare to aur kare deewaana kya

'इंशा'-जी उठो अब कूच करो इस शहर में जी को लगाना क्या
वहशी को सुकूँ से क्या मतलब जोगी का नगर में ठिकाना क्या

इस दिल के दरीदा दामन को देखो तो सही सोचो तो सही
जिस झोली में सौ छेद हुए उस झोली का फैलाना क्या

शब बीती चाँद भी डूब चला ज़ंजीर पड़ी दरवाज़े में
क्यूँ देर गए घर आए हो सजनी से करोगे बहाना क्या

फिर हिज्र की लम्बी रात मियाँ संजोग की तो यही एक घड़ी
जो दिल में है लब पर आने दो शर्माना क्या घबराना क्या

उस रोज़ जो उन को देखा है अब ख़्वाब का आलम लगता है
उस रोज़ जो उन से बात हुई वो बात भी थी अफ़साना क्या

उस हुस्न के सच्चे मोती को हम देख सकें पर छू न सकें
जिसे देख सकें पर छू न सकें वो दौलत क्या वो ख़ज़ाना क्या

उस को भी जला दुखते हुए मन इक शो'ला लाल भबूका बन
यूँ आँसू बन बह जाना क्या यूँ माटी में मिल जाना क्या

जब शहर के लोग न रस्ता दें क्यूँ बन में न जा बिसराम करे
दीवानों की सी न बात करे तो और करे दीवाना क्या

- Ibn E Insha
0 Likes

Greed Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Greed Shayari Shayari