yahan se chaaron taraf raaste nikalte hain | यहाँ से चारों तरफ़ रास्ते निकलते हैं - Idris Babar

yahan se chaaron taraf raaste nikalte hain
thehar thehar ke ham is khwaab se nikalte hain

kisi kisi ko hai tehzeeb-e-dasht-araai
kai to khaak udaate hue nikalte hain

yahan rivaaj hai zinda jala diye jaayen
vo log jin ke gharo se diye nikalte hain

ajeeb dasht hai dil bhi jahaan se jaate hue
vo khush hain jaise kisi baagh se nikalte hain

ye log so rahe honge jabhi to aaj talak
zaruf-e-khaak se khwaabon bhare nikalte hain

sitaare dekh ke khush hoon ki roz meri tarah
jo kho gaye hain unhen dhoondhne nikalte hain

यहाँ से चारों तरफ़ रास्ते निकलते हैं
ठहर ठहर के हम इस ख़्वाब से निकलते हैं

किसी किसी को है तहज़ीब-ए-दश्त-आराई
कई तो ख़ाक उड़ाते हुए निकलते हैं

यहाँ रिवाज है ज़िंदा जला दिए जाएँ
वो लोग जिन के घरों से दिए निकलते हैं

अजीब दश्त है दिल भी जहाँ से जाते हुए
वो ख़ुश हैं जैसे किसी बाग़ से निकलते हैं

ये लोग सो रहे होंगे जभी तो आज तलक
ज़रूफ़-ए-ख़ाक से ख़्वाबों भरे निकलते हैं

सितारे देख के ख़ुश हूँ कि रोज़ मेरी तरह
जो खो गए हैं उन्हें ढूँडने निकलते हैं

- Idris Babar
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari