chaand phir taaron ki ujli rezigari de gaya | चाँद फिर तारों की उजली रेज़गारी दे गया - Iftikhar Naseem

chaand phir taaron ki ujli rezigari de gaya
raat ko ye bheek kaisi khud bhikaari de gaya

taankti phirti hain kirnen baadlon ki shaal par
vo hawa ke haath mein gota kanaari de gaya

kar gaya hai dil ko har ik vaahime se be-niyaaz
rooh ko lekin ajab si be-qaraari de gaya

shor karte hain parinde ped katata dekh kar
shehar ke dast-e-hawas ko kaun aari de gaya

us ne ghaayal bhi kiya to kaise patthar se naseem
phool ka tohfa mujhe mera shikaari de gaya

चाँद फिर तारों की उजली रेज़गारी दे गया
रात को ये भीक कैसी ख़ुद भिकारी दे गया

टाँकती फिरती हैं किरनें बादलों की शाल पर
वो हवा के हाथ में गोटा कनारी दे गया

कर गया है दिल को हर इक वाहिमे से बे-नियाज़
रूह को लेकिन अजब सी बे-क़रारी दे गया

शोर करते हैं परिंदे पेड़ कटता देख कर
शहर के दस्त-ए-हवस को कौन आरी दे गया

उस ने घायल भी किया तो कैसे पत्थर से 'नसीम'
फूल का तोहफ़ा मुझे मेरा शिकारी दे गया

- Iftikhar Naseem
0 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Naseem

As you were reading Shayari by Iftikhar Naseem

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Naseem

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari