khud ko hujoom-e-dahr mein khona pada mujhe | ख़ुद को हुजूम-ए-दहर में खोना पड़ा मुझे - Iftikhar Naseem

khud ko hujoom-e-dahr mein khona pada mujhe
jaise the log waisa hi hona pada mujhe

dushman ko marte dekh ke logon ke saamne
dil hans raha tha aankh se rona pada mujhe

kuchh is qadar the phool zameen par khile hue
taaron ko aasmaan mein bona pada mujhe

aisi shikast thi ki kati ungliyon ke saath
kaanton ka ek haar pirona pada mujhe

kaari nahin tha vaar magar ek umr tak
aab-e-namak se zakham ko dhona pada mujhe

aasaan nahin hai likhna gham-e-dil ki waardaat
apna qalam lahu mein dubona pada mujhe

itni taveel o sard shab-e-hijr thi naseem
kitni hi baar jaagna sona pada mujhe

ख़ुद को हुजूम-ए-दहर में खोना पड़ा मुझे
जैसे थे लोग वैसा ही होना पड़ा मुझे

दुश्मन को मरते देख के लोगों के सामने
दिल हँस रहा था आँख से रोना पड़ा मुझे

कुछ इस क़दर थे फूल ज़मीं पर खिले हुए
तारों को आसमान में बोना पड़ा मुझे

ऐसी शिकस्त थी कि कटी उँगलियों के साथ
काँटों का एक हार पिरोना पड़ा मुझे

कारी नहीं था वार मगर एक उम्र तक
आब-ए-नमक से ज़ख़्म को धोना पड़ा मुझे

आसाँ नहीं है लिखना ग़म-ए-दिल की वारदात
अपना क़लम लहू में डुबोना पड़ा मुझे

इतनी तवील ओ सर्द शब-ए-हिज्र थी 'नसीम'
कितनी ही बार जागना सोना पड़ा मुझे

- Iftikhar Naseem
0 Likes

Dushmani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Naseem

As you were reading Shayari by Iftikhar Naseem

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Naseem

Similar Moods

As you were reading Dushmani Shayari Shayari