tira hai kaam kamaan mein use lagaane tak | तिरा है काम कमाँ में उसे लगाने तक - Iftikhar Naseem

tira hai kaam kamaan mein use lagaane tak
ye teer khud hi chala jaayega nishaane tak

main sheesha kyun na bana aadmi hua kyunkar
mujhe to umr lagi toot phoot jaane tak

gaye huoon ne palat kar sada na di mujh ko
main kitni baar gaya ghaar ke dahaane tak

tujhe to apne paron par hi e'tibaar nahin
tu kaise aayega ud kar mere zamaane tak

kiya tha faisla buniyaad-e-aashiyaaan ka naseem
hawaaein tinke uda laaien aashiyaane tak

तिरा है काम कमाँ में उसे लगाने तक
ये तीर ख़ुद ही चला जाएगा निशाने तक

मैं शीशा क्यूँ न बना आदमी हुआ क्यूँकर
मुझे तो उम्र लगी टूट फूट जाने तक

गए हुओं ने पलट कर सदा न दी मुझ को
मैं कितनी बार गया ग़ार के दहाने तक

तुझे तो अपने परों पर ही ए'तिबार नहीं
तू कैसे आएगा उड़ कर मिरे ज़माने तक

किया था फ़ैसला बुनियाद-ए-आशियाँ का 'नसीम'
हवाएँ तिनके उड़ा लाईं आशियाने तक

- Iftikhar Naseem
0 Likes

Teer Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Naseem

As you were reading Shayari by Iftikhar Naseem

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Naseem

Similar Moods

As you were reading Teer Shayari Shayari