vo ham se aaj bhi daaman-kashaan chale hai miyaan | वो हम से आज भी दामन-कशाँ चले है मियाँ - Jaan Nisar Akhtar

vo ham se aaj bhi daaman-kashaan chale hai miyaan
kisi pe zor hamaara kahaan chale hai miyaan

jahaan bhi thak ke koi kaarwaan theharta hai
wahin se ek naya kaarwaan chale hai miyaan

jo ek samt gumaan hai to ek samt yaqeen
ye zindagi to yoonhi darmiyaan chale hai miyaan

badalte rahte hain bas naam aur to kya hai
hazaaron saal se ik dastaan chale hai miyaan

har ik qadam hai nayi aazmaishon ka hujoom
tamaam umr koi imtihaan chale hai miyaan

wahin pe ghoomte rahna to koi baat nahin
zameen chale hai to aage kahaan chale hai miyaan

vo ek lamha-e-hairat ki lafz saath na den
nahin chale hai na aise mein haan chale hai miyaan

वो हम से आज भी दामन-कशाँ चले है मियाँ
किसी पे ज़ोर हमारा कहाँ चले है मियाँ

जहाँ भी थक के कोई कारवाँ ठहरता है
वहीं से एक नया कारवाँ चले है मियाँ

जो एक सम्त गुमाँ है तो एक सम्त यक़ीं
ये ज़िंदगी तो यूँही दरमियाँ चले है मियाँ

बदलते रहते हैं बस नाम और तो क्या है
हज़ारों साल से इक दास्ताँ चले है मियाँ

हर इक क़दम है नई आज़माइशों का हुजूम
तमाम उम्र कोई इम्तिहाँ चले है मियाँ

वहीं पे घूमते रहना तो कोई बात नहीं
ज़मीं चले है तो आगे कहाँ चले है मियाँ

वो एक लम्हा-ए-हैरत कि लफ़्ज़ साथ न दें
नहीं चले है न ऐसे में हाँ चले है मियाँ

- Jaan Nisar Akhtar
0 Likes

Faith Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Faith Shayari Shayari