zulfen seena naaf kamar | ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर - Jaan Nisar Akhtar

zulfen seena naaf kamar
ek nadi mein kitne bhanwar

sadiyon sadiyon mera safar
manzil manzil raahguzar

kitna mushkil kitna kathin
jeene se jeene ka hunar

gaav mein aa kar shehar base
gaav bichaare jaayen kidhar

phoonkne waale socha bhi
failegi ye aag kidhar

laakh tarah se naam tira
baitha likkhoon kaaghaz par

chhote chhote zehan ke log
ham se un ki baat na kar

pet pe patthar baandh na le
haath mein sajte hain patthar

raat ke peeche raat chale
khwaab hua har khwaab-e-seher

shab bhar to aawaara phire
laut chalen ab apne ghar

ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर
एक नदी में कितने भँवर

सदियों सदियों मेरा सफ़र
मंज़िल मंज़िल राहगुज़र

कितना मुश्किल कितना कठिन
जीने से जीने का हुनर

गाँव में आ कर शहर बसे
गाँव बिचारे जाएँ किधर

फूँकने वाले सोचा भी
फैलेगी ये आग किधर

लाख तरह से नाम तिरा
बैठा लिक्खूँ काग़ज़ पर

छोटे छोटे ज़ेहन के लोग
हम से उन की बात न कर

पेट पे पत्थर बाँध न ले
हाथ में सजते हैं पत्थर

रात के पीछे रात चले
ख़्वाब हुआ हर ख़्वाब-ए-सहर

शब भर तो आवारा फिरे
लौट चलें अब अपने घर

- Jaan Nisar Akhtar
0 Likes

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari