chaunk chaunk uthati hai mahlon ki fazaa raat gaye | चौंक चौंक उठती है महलों की फ़ज़ा रात गए - Jaan Nisar Akhtar

chaunk chaunk uthati hai mahlon ki fazaa raat gaye
kaun deta hai ye galiyon mein sada raat gaye

ye haqaaiq ki chataanon se taraashi duniya
odh leti hai tilismon ki rida raat gaye

chubh ke rah jaati hai seene mein badan ki khushboo
khol deta hai koi band-e-qaba raat gaye

aao ham jism ki shamon se ujaala kar len
chaand nikla bhi to niklega zara raat gaye

tu na ab aaye to kya aaj talak aati hai
seedhiyon se tire qadmon ki sada raat gaye

चौंक चौंक उठती है महलों की फ़ज़ा रात गए
कौन देता है ये गलियों में सदा रात गए

ये हक़ाएक़ की चटानों से तराशी दुनिया
ओढ़ लेती है तिलिस्मों की रिदा रात गए

चुभ के रह जाती है सीने में बदन की ख़ुश्बू
खोल देता है कोई बंद-ए-क़बा रात गए

आओ हम जिस्म की शम्ओं से उजाला कर लें
चाँद निकला भी तो निकलेगा ज़रा रात गए

तू न अब आए तो क्या आज तलक आती है
सीढ़ियों से तिरे क़दमों की सदा रात गए

- Jaan Nisar Akhtar
1 Like

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari