aankhen chura ke ham se bahaar aaye ye nahin | आँखें चुरा के हम से बहार आए ये नहीं - Jaan Nisar Akhtar

aankhen chura ke ham se bahaar aaye ye nahin
hisse mein apne sirf ghubaar aaye ye nahin

koo-e-gham-e-hayaat mein sab umr kaat di
thoda sa waqt waan bhi guzaar aaye ye nahin

khud ishq qurb-e-jism bhi hai qurb-e-jaan ke saath
ham door hi se un ko pukaar aaye ye nahin

aankhon mein dil khule hon to mausam ki qaid kya
fasl-e-bahaar hi mein bahaar aaye ye nahin

ab kya karein ki husn jahaan hai aziz hai
tere siva kisi pe na pyaar aaye ye nahin

va'don ko khoon-e-dil se likho tab to baat hai
kaaghaz pe qismaton ko sanwaar aaye ye nahin

kuchh roz aur kal ki muravvat mein kaat len
dil ko yaqeen-e-waada-e-yaar aaye ye nahin

आँखें चुरा के हम से बहार आए ये नहीं
हिस्से में अपने सिर्फ़ ग़ुबार आए ये नहीं

कू-ए-ग़म-ए-हयात में सब उम्र काट दी
थोड़ा सा वक़्त वाँ भी गुज़ार आए ये नहीं

ख़ुद इश्क़ क़ुर्ब-ए-जिस्म भी है क़ुर्ब-ए-जाँ के साथ
हम दूर ही से उन को पुकार आए ये नहीं

आँखों में दिल खुले हों तो मौसम की क़ैद क्या
फ़स्ल-ए-बहार ही में बहार आए ये नहीं

अब क्या करें कि हुस्न जहाँ है अज़ीज़ है
तेरे सिवा किसी पे न प्यार आए ये नहीं

वा'दों को ख़ून-ए-दिल से लिखो तब तो बात है
काग़ज़ पे क़िस्मतों को सँवार आए ये नहीं

कुछ रोज़ और कल की मुरव्वत में काट लें
दिल को यक़ीन-ए-वादा-ए-यार आए ये नहीं

- Jaan Nisar Akhtar
0 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari